मुसला-कैका एनकाउण्टर पर उठे सवाल, फोर्स पर लगे गंभीर आरोप

1387
- गंगालूर में पूनेम सन्नू का घर।

मुसला-कैका एनकाउण्टर पर उठे सवाल, फोर्स पर लगे गंभीर आरोप

पंकज दाऊद @ बीजापुर। नैमेड़ थाना क्षेत्र के मुसला-कैका में दो दिन पहले हुई मुठभेड़ को ले गांव के लोग फोर्स पर गंभीर आरोप लगा रहे हैं और न्यायिक जांच की मांग कर रहे हैं। वे इस एनकाउण्टर को फर्जी बता रहे हैं।

गांव के लोगों का आरोप है कि सन्नू पूनेम (30) पोटामपारा गंगालूर से अपनी बुआ के घर मूसला गया था। यहां रात में फोर्स आई और सन्नू के अलावा कोरसा सन्नू, मंगू कोरसा एवं अवलम बुदरी को पकड़कर ले गई।

यह भी पढ़ें :  6 और कोरोना पॉजिटिव AIIMS से हुए डिस्चार्ज, 24 घंटे में 11 मरीज हुए ठीक... अब केवल 10 कोरोना के एक्टिव केस बचे
– अंतिम संस्कार से पहले शोकाकुल परिवार।

रिश्ते में सन्नू कोरसा सन्नू पूनेम का चाचा लगा है और मंगू व बुदरी भाई-बहन। आधे घंटे के बाद सन्नू पूूनेम को पकड़कर रखा गया और तीनों को छोड़ दिया गया। इसके बाद पूनम सन्नू का शव दूसरे दिन मिला।

इस मुठभेड़ को ले गांव में आक्रोश है। गांव के लोग शव का अंतिम संस्कार नहीं कर रहे थे लेकिन रविवार की शाम गांव में ही उसका अंतिम संस्कार किया गया।

यह भी पढ़ें :  पूर्व मंत्री महेश गागड़ा का आरोप: भूपेश सरकार में सुनने वाला कोई नहीं, दबाव में खबरें भी हो रही सेंसर
– गंगालूर में पूनेम सन्नू का घर।

समाजसेवी सोनी सोड़ी ने आरोप लगाया है कि ये एनकाउण्टर फर्जी था। सन्नू ने कभी हथियार नहीं थामा था। उन्होंने सवाल किया कि कब सन्नू को तीन लाख का इनामी घोषित किया गया था ? सरकार एफआईआर की कापी दे। उन्होंने सरकार से उचित मुआवजे की भी मांग की है।