राज्य स्थापना दिवस पर सिलगेर में जुटे हजारों आदिवासी… एकजुट होकर निकाली रैली, मांगा अपना अधिकार

112

राज्य स्थापना दिवस पर सिलगेर में जुटे हजारों आदिवासी… एकजुट होकर निकाली रैली, मांगा अपना अधिकार

के शंकर @ सुकमा। छत्तीसगढ़ में राज्य स्थापना की 21वीं वर्षगांठ धूमधाम से मनाई जा रही है। इधर, सुकमा जिले के सिलगेर में हजारों आदिवासी ग्रामीण इकट्ठा हुए और अपने अधिकारों को लेकर प्रदर्शन किया।

‘मूल बचाओ आदिवासी मंच’ के बैनर तले एकत्रित ग्रामीणों ने राज्य स्थापना दिवस मनाते हुए एकजुट होकर रैली निकाली और आमसभा में नारेबाजी भी की।

यह भी पढ़ें :  नक्सल प्रभावित क्षेत्र चिन्तलनार पहुंचे कलेक्टर और SP… चौपाल लगाकर सुनी ग्रामीणों की समस्या

ग्रामीणों का कहना था कि छत्तीसगढ़ राज्य स्थापना के 21 साल बाद आज भी आदिवासी गुलामी की तरह जीने को मजबूर हैं। अंदरूनी इलाकों में ग्रामीण सरकार की तमाम योजनाओं से वंचित हैं। पीने के लिये शुद्ध पेयजल, स्वास्थ्य, शिक्षा, बिजली जैसी बुनियादी सुविधाओं के लिए ग्रामीणों को जूझना पड़ रहा है।

आपको बता दें कि सिलगेर में हजारों की संख्या में आदिवासी ग्रामीण विगत 5 महीने से अपनी मांगों को लेकर लगातार आंदोलन कर रहे हैं। सिलगेर में हुए गोलीकांड के बाद न्यायिक जांच की मांग करते हुए लगातार सिलगेर में आदिवासी डटे हुए हैं।

यह भी पढ़ें :  चिंतावागु नदी में डूबे किसान के 83 मवेशी, तट पर बांध रखे थे गाय और बैल

सिलगेर में आंदोलन कर रहे आदिवासी ग्रामीणों का समर्थन करने सामाजिक कार्यकर्ताओं के साथ छत्तीसगढ़ के अन्य संघ किसान मोर्चा, किसान मजदूर, मुक्ति मोर्चा, अखिल भारतीय क्रांतिकारी किसान सभा के तमाम 5 सदस्यों की टीम सिलगेर पहुंची और आम सभा में आदिवासी ग्रामीणों का समर्थन किया।

सिलगेर आम सभा में अलग-अलग संघ के 5 सदस्यों की टीम किसान मजदूर महा संघ के संचालक मंडल सदस्य जागेश्वर जुगनू चंद्राकर, आदिवासी भारत महा सभा के संयोजक सवरा यादव, छत्तीसगढ़ मुक्ति मोर्चा के सदस्य व पूर्व विधायक जनक लाल ठाकुर, अखिल भारतीय क्रांतिकारी किसान सभा के सदस्य हेमंत कुमार टण्डन, सयुंक्त किसान मोर्चा के सदस्य अखिल भारतीय क्रांतिकारी किसान सभा के राष्ट्रीय सचिव तेजराम विद्रोही पहुंचे।

यह भी पढ़ें :  IED ब्लास्ट में DRG का जवान जख्मी... सर्चिंग पर निकली थी ज्वाइंट पार्टी, तभी हुआ तेज धमाका