कोरोना निकला ‘निगेटिव’ और सोच बनी ‘पाॅजीटिव’, 5 लाख के इनामी समेत दो माओवादियों ने किया सरेण्डर…माओवादियों ने जिसे कोरोना के शक में छोड़ा, उसने त्यागा हिंसा का रास्ता

53
Two Maoists including a prize of 5 lakh in Bijapur surrendered

कोरोना निकला निगेटिव और सोच बनी पाॅजीटिव, 5 लाख के इनामी समेत दो माओवादियों ने किया सरेण्डर…माओवादियों ने जिसे कोरोना के शक में छोड़ा, उसने त्यागा हिंसा का रास्ता

पंकज दाऊद @ बीजापुर। भले ही नक्सलियों ने कोरोना के शक में अपने मेंबर सुमित्रा चेपा (36) को संगठन से निकाल दिया लेकिन उसका कोरोना टेस्ट निगेटिव आया। फिर उसमें संगठन छोड़ मुख्यधारा से जुड़ जाने की पाॅजीटिव सोच पैदा हुई।

Two Maoists including a prize of 5 lakh in Bijapur surrendered

यहां बस्तर आईजी पी सुंदरराज, कलेक्टर रितेश अग्रवाल, सीआरपीएफ के डीआईजी कोमल सिंह व एसपी कमलोचन कश्यप के समक्ष सुमित्रा के अलावा पांच लाख के इनामी नक्सली मड़कम देवा उर्फ माडा ने शनिवार को आत्म समर्पण कर दिया। इस दौरान सीआरपीएफ के कमाण्डेंट यादवेन्द्र सिंह यादव, एके चौधरी, एके भट्टाचार्य, पी कुजूर एवं प्रेम माकन मौजूद थे।

यह भी पढ़ें :  इस जिले में खुलेंगी सभी दुकानें, कलेक्टर ने लॉकडाउन में दी बड़ी राहत... गुपचुप-चाट और पान के शौकीनों को करना होगा इंतजार!

Read More: 

 

सरेंडर करने वाला नक्सली निवासी मड़कम देवा थाना बासागुड़ा क्षेत्र के कोरसागुड़ा का निवासी है। वह जगरगुण्डा-बासागुड़ा का एरिया कमेटी मेंबर और जनताना सरकार का अध्यक्ष था। देवा कई वारदातों में शामिल था, वहीं सुमित्रा मोदकपाल थाना क्षेत्र के पेद्दाकवाली की निवासी है। वह कंपनी नंबर एक की प्लाटून नंबर तीन की मेंबर थी।

यह भी पढ़ें :  किसान विरोधी काले कानून वापस ले मोदी सरकार, उद्योगपतियों को लाभ पहुंचाने किसानों पर जबरन कानून थोपना गलत

Read More: 

 

सुमित्रा को 12 जून को चार माओवादियों के साथ उसके घर भेज दिया गया। संदिग्ध परिस्थिति में मिलने पर सीआरपीएफ की 170 बटालियन ने उससे पूछताछ की और फिर उसे क्वारेंटाइन में रखा गया। उसे टीबी की शिकायत पाई गई है। उसका इलाज चल रहा है।

यह भी पढ़ें :  सिलगेर मामले की जांच करेंगे सुकमा के दण्डाधिकारी, गांव आएंगे और करेंगे पूछताछ ... कैम्प हटाने पर अभी फैसला नहीं!

Read More: 

पुलिस व प्रशासनिक अफसरों के समक्ष सरेंडर करने के पश्चात आत्मसमर्पित दोनों नक्सलियों को दस-दस हजार रूपए की प्रोत्साहन राशि दी गई। आईजी सुंदरराज ने कहा कि दोनों को पुनर्वास नीति का लाभ दिया जाएगा।

  • आपको यह खबर पसंद आई तो इसे अन्य ग्रुप में Share करें…

ख़बर बस्तर के व्हॉट्सएप्प ग्रुप में जुड़ने के लिए यहां क्लिक कीजिए….