बस्तर के विधायकों को CM की क्लीन चिट, भूपेश बोले- किसी MLA का रिपोर्ट कार्ड खराब नहीं… लेकिन!

2067

बस्तर के विधायकों को CM की क्लीन चिट, भूपेश बोले- किसी MLA का रिपोर्ट कार्ड खराब नहीं… लेकिन!

दंतेवाड़ा @ खबर बस्तर। बस्तर के कुछ विधायकों का परफार्मेंस खराब होने की बात को सीएम भूपेश बघेल ने सिरे से नकार दिया है। उन्होंने कहा कि किसी भी विधायक का रिपोर्ट कार्ड खराब नहीं है। सभी एमएलए ठीक काम कर रहे हैं।

दंतेवाड़ा में मंगलवार को आयोजित प्रेस वार्ता में जब मुख्यमंत्री से पूछा गया कि बस्तर के कुछ विधायकों का रिपोर्ट कार्ड खराब होने की बात सामने आ रही है। आप तक भी इसकी रिपोर्ट पहुंची है। ऐसे में इन विधायकों के साथ अगली बार सरकार कैसे बनाएंगे?

यह भी पढ़ें :  कवासी लखमा का बड़ा बयान, बोले- नक्सली और पुलिस की गोली खाता है बस्तर का आदिवासी !

पत्रकार के इस सवाल पर सीएम ने उल्टे सवाल किया कि, विधायकों का रिपोर्ट कार्ड खराब होने की बात आपको कैसे पता है। ऐसी कोई बात नहीं है। सभी विधायक अच्छा काम कर रहे हैं। किसी का परफार्मेंस खराब नहीं है।

कमियां दूर करने की जरूरत

हालांकि, सीएम भूपेश बघेल ने स्वीकारा कि कुछ जगहों पर कुछ कमियां हैं। मैंने संबंधित विधायकों को इन कमियों को दूर करने की सलाह दी है। अगली बार सरकार बनाने वाली बात पर CM ने कहा कि यह हमारी रणनीति है। इसे सार्वजनिक नहीं किया जा सकता।

सीएम जब पत्रकारों के इस सवाल का जवाब दे रहे थे तो उस वक्त मंच पर उनके साथ मंत्री कवासी लखमा, दंतेवाड़ा विधायक देवती महेन्द्र कर्मा और बीजापुर विधायक विक्रम शाह मण्डावी मौजूद थे।

प्रेस वार्ता में पत्रकारों से रूबरू होते सीएम ने कहा कि बस्तर अब शांति की ओर लौट रहा है। दंतेवाड़ा में हुए परिवर्तन को मैंने स्वयं देखा है। क्षेत्र में पुलिस की पेट्रोलिंग भी बढ़ी है। एक समय में यहां बारूद और धमाके की चर्चा आम थी। लेकिन, अब डैनेक्स और दूसरी चीजों के लिए दंतेवाड़ा जाना जा रहा है।

यह भी पढ़ें :  ट्रांसफर ब्रेकिंग: डिप्टी कलेक्टर, संयुक्त कलेक्टर समेत 50 से ज्यादा अफसरों का तबादला... जनपद पंचायतों के CEO भी बदले गए

सिलगेर मामले की एक साल में आई जांच रिपोर्ट

मुख्यमंत्री ने कहा कि सिलगेर में हुई घटना दुखद है। इसमें 3 लोगों की मौत भी हुई। ऐसा पहली बार हुआ है कि किसी भी घटना के बाद हमने पीड़ित परिवार और वहां के लोगों से सीधे बातचीत की। मामले की जांच करवाई गई। एक साल में ही इसकी जांच रिपोर्ट भी आ गई है।