दिल्ली में दंतेवाड़ा का बजा डंका, जिले को मिला DSPD का अवार्ड फॉर एक्सीलेंस

1722

दिल्ली में दंतेवाड़ा का बजा डंका, जिले को मिला DSPD का अवार्ड फॉर एक्सीलेंस

दंतेवाड़ा @ खबर बस्तर। छत्तीसगढ़ के दंतेवाड़ा जिले को कौशल विकास के क्षेत्र में राष्ट्रीय अवार्ड से सम्मानित किया गया है। यह पुरस्कार शुक्रवार को नई दिल्ली के जनपथ रोड स्थित डॉ. अंबेडकर इंटरनेशनल सेंटर में आयोजित समारोह के दौरान दिया गया।

कार्यक्रम में दंतेवाड़ा सीईओ आकाश छिकारा को सेक्रेटरी कौशल विकास और उद्यमशीलता राजेश अग्रवाल तथा ज्वाइंट सेक्रेटरी कौशल विकास और उद्यमशीलता अनुराधा वेमुरी की मौजूदगी में अवॉर्ड दिया गया।

आपको बता दें कि इस अवार्ड के लिए छत्तीसगढ़ राज्य से दो जिलों दंतेवाड़ा और महासमुंद का चयन किया गया था। दंतेवाड़ा जिले में कौशल विकास और उद्यमशीलता के क्षेत्र में नवाचार और स्वरोजगार की दिशा में बेहतर प्रदर्शन के लिए दंतेवाड़ा जिला को अवार्ड फार एक्सीलेंस पुरस्कृत किया गया।

यह भी पढ़ें :  कांग्रेस ने की शिकायत तो ओपी चौधरी बोले- कांग्रेस को दंतेवाड़ा में मेरा भूत दिखता है... सरकार को दी इस बात की चुनौती !

दंतेवाड़ा कलेक्टर दीपक सोनी के मार्गदर्शन में जनजातीय आदिवासी बहुजन क्षेत्र होने पर भी इन क्षेत्रों में बेहतर क्रियान्वयन हेतु विभिन्न कार्यक्रम चलाये गये। जिसके तहत जिले के विकास में आज लोग स्वावलम्बन का अवसर प्राप्त कर अपनी भूमिका निभा रहे हैं।

मुख्यमंत्री भूपेश बघेल के मंशानुरूप जिले में गरीबी उन्मूलन के तहत ‘पूना माड़ाकाल दन्तेवाड़ा’ का सपना साकार हो रहा है। जिले में प्रशासन द्वारा रोजगार के क्षेत्र में किए जा रहे विशेष प्रयासों के बदौलत आज लोगों को आजीविका से जोड़ उनकी आर्थिक स्थिति को मजबूती प्रदान की गई है। 

यह भी पढ़ें :  DRG जवानों ने नक्सली कैंप पर धावा बोला, दवा व बर्तन छोड़ भागे माओवादी

गरीबी उन्मूलन के क्षेत्र में कई नवाचारों को दंतेवाड़ा जिले ने अपनाया है और आज उस पथ की ओर अग्रसर हैं जहाँ जागरूकता के साथ लोग स्वरोजगार से जुड़ आत्मनिर्भरता की ओर आगे बढ़ रहे हैं। इससे स्थानीय आदिवासियों का जीवनस्तर सुधर रहा है।

डेनेक्स ने बढ़ाया दन्तेवाड़ा का गौरव

दंतेवाड़ा की डेनेक्स गारमेंट फैक्ट्री में 770 से ज्यादा लोगों को रोजगार मिला है। फिलहाल जिले में 4 फैक्ट्री संचालित है और जल्द ही छिंदनार में भी एक अन्य यूनिट स्थापित की जा रही है।

यह भी पढ़ें :  छग-आंध्र बार्डर पर नक्सलियों के खिलाफ ग्रामीणों ने निकाली रैली, नक्सलवाद के खात्मे के लगाए नारे

चारों डेनेक्स में 1200 परिवारों को रोजगार देने का लक्ष्य है। यहाँ तैयार कपड़ों का विक्रय पूरे देश में कश्मीर से कन्याकुमारी तक हो रहा है। अब तक 41 करोड़ की राशि का 6 लाख 85 हजार के कपड़े विक्रय किया जा चुका है।