अबूझमाड़ के जंगलों में नक्सलियों के ट्रेनिंग कैम्प में जवानों ने बोला धावा…मुठभेड़ में 5 नक्सली ढेर, दो जवान घायल

49
5 naxalites killed in encounter, two soldiers injured

नारायणपुर @ खबर बस्तर। छत्तीसगढ़ के नारायणपुर जिले में सुरक्षा बलों ने बड़ी कामयाबी हासिल करते शनिवार को मुठभेड़ में पांच नक्सलियों को ढेर कर दिया। जवानों ने अबूझमाड़ इलाके के जंगलों में माओवादी ट्रेनिंग कैंप को भी ध्वस्त किया है।

Read More : ‘आसमान से गिरे facebook में अटके’… ‘इसमें तेरा घाटा, मेरा कुछ नहीं जाता’

हालांकि, पुलिस-नक्सली मुठभेड़ में डीआरजी के दो जवान भी घायल हुए हैं। मुठभेड़ की पुष्टि एसपी मोहित गर्ग ने की है। मारे गए नक्सलियों के शवों के साथ भारी मात्रा में हथियार बरामद किए गए हैं।

यह भी पढ़ें: थाईलैंड के मशहूर ‘ड्रैगन फ्रूट’ की खेती अब हो रही बस्तर के इस इलाके में…जानिए क्या है ‘ड्रैगन फ्रूट’ और क्यों खास है यह विदेशी फल

यह भी पढ़ें :  प्राचार्य वर्ग-1 और प्राचार्य वर्ग-2 की चयन सूची जारी... लोक सेवा आयोग ने 49 पदों के लिए जारी की लिस्ट

naxalite-encounter

पुलिस को अबूझमाड़ के ओरछा इलाके के जंगलों में नक्सलियों के मूवमेंट की जानकारी मिली थी। इस बात की भी सूचना मिली थी कि नक्सली वहां पर ट्रेनिंग कैंप चला रहे हैं। इसके बाद डीआरजी के जवान शुक्रवार की शाम सर्चिंग पर निकले थे।

यह भी पढ़ें: हार के बाद पार्टी में घटा केदार और गागड़ा का कद ! दंतेवाड़ा व चित्रकोट सीट पर उपचुनाव हेतु शिवरतन और चंदेल बने प्रभारी

यह भी पढ़ें :  तालाब में डूबने से 2 मासूमों की मौत, खेलते वक्त हुआ हादसा...मृत बच्चे चचेरे भाई-बहन

शनिवार सुबह सुरक्षा बल के जवान जंगल में दाखिल हुए और ओरछा से करीब 20 किमी अंदर धुरबेड़ा में चल रहे नक्सलियों के कैम्प पर धावा बोल दिया। सुबह करीब साढ़े 8 बजे दोनों ओर से गोलीबारी शुरू हुई।करीब 1 घंटे तक चली मुठभेड़ के बाद नक्सली मौके से भाग खड़े हुए।

5 Naxalites killed in encounter

मुठभेड़ खत्म होने के बाद घटनास्थल से मारे गए नक्सलियों के शव बरामद कर लिए गए हैं। मौके से बड़ी संख्या में हथियार बरामद किए हैं। मुठभेड़ में घायल दो जवानों का इलाज चल रहा है।

यह भी पढ़ें :  नक्सलियों ने ठेकेदार को उतारा मौत के घाट, पोकलेन समेत 3 वाहनों में लगाई आग

यह भी पढ़ें: फर्जी नक्सली बनकर बस में आगजनी व लूटपाट करने वाले 3 आरोपी गिरफ्तार… सस्पेंड आरक्षक और दो जवानों ने मिलकर दिया था वारदात को अंजाम, एक आरोपी फरार

एसपी मोहित गर्ग ने बताया कि घने जंगल में नक्सलियों का कैंप संचालित था। जिस इलाके में कैंप था, उसे नक्सली बेहद सुरक्षित मानते हैं। जवानों ने माओवादियों के सुरक्षित ठिकाने में धावा बोलकर बड़ी कार्रवाई की है।


ख़बर बस्तर के WhatsApp ग्रुप में जुड़ने के लिए इस Link को क्लिक कीजिए….